Tez Khabar. Khas Khabar

News Aaj Photo Gallery
NSE 10093
BSE 32158
hii
Gold 29847
Silver 41027
Home | प्रदेश | मध्य प्रदेश

जब पद नहीं दोगे तो कार्यकर्ता काम कैसे करेंगे:अमित शाह

भोपाल: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पदेश में मोर्चों व प्रकोष्ठों की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जताई है। शाह ने कहा कि मेरे भोपाल प्रवास में आने की सूचना मिलने के बाद मोर्चों व प्रकोष्ठों की कार्यकारिणी की थोकबंद नियुक्तियां की गईं। जब पद नहीं दोगे तो कार्यकर्ता काम कैसे करेगा? उन्होंने यह तक कह दिया कि अभी भी कई प्रकोष्ठों व मोर्चा अध्यक्षों की कार्यकारिणी घोषित नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि कार्यकारिणी का गठन सितंबर तक हर हालत में कर लें। इतना ही नहीं, शाह ने मोर्चों व प्रकोष्ठों की कमियां भी गिनाई। उन्होंने कहा कि यूपी-बिहार में बाढ़ आई है, लेकिन मप्र के प्राकृतिक आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ ने अभी तक ना तो सहायता राशि भेजी और ना ही कोई टीम लोगों की सहायता के लिए गई। मोर्चा अध्यक्षों को चेतावनी देते हुए शाह ने कहा कि पार्टी के निर्देशों को गंभीरता से लेकर पंचायतों तक अपनी पैठ बनाएं। मोर्चा के पदाधिकारी कलेक्टिव व कंस्ट्रक्टिव वर्क करें। शाह ने खासतौर पर महिला मोर्चा व युवा मोर्चा को आड़े हाथ लिया। युवा मोर्चा की तो जिम्मेदारी और अधिक है क्योंकि पार्टी इस वर्ग को सबसे आगे लेकर चलती है। इसलिए ये अच्छा काम करें। अजा व अजजा मोर्चा के अध्यक्षों से उन्होंने कहा कि इस मोर्चा को इन वर्गों की सीट वाले इलाकों में फोकस कर काम करने की जरूरत है। शाह ने कहा कि पार्टी के 18 प्रकोष्ठ पार्टी के ड्रीम प्रोजेक्ट की तरह हैं। इन प्रकोष्ठों के पदाधिकारी व कार्यकारिणी के लोग समाज के बीच जाएं। महत्व नहीं देते : बैठक में भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष लता ऐलकर ने बैठक में कहा कि मोर्चा पदाधिकारियों को मंत्री, विधायक महत्व नहीं देते। बंगले पर मंत्री मिलते नहीं हैं। उनकी सुनवाई नहीं होती है। इस पर शाह ने आश्वस्त किया कि सबको महत्व मिलना चाहिए। इस मामले में ध्यान दिया जाएगा। सभी की बात सुनी जाएगी। गौर ने कहा- मुझे राष्ट्रीय महामंत्री रामलाल ने दी थी फार्मूले की जानकारी, सरताज बोले- भ्रम दूर हो गया भाजपा अध्यक्ष शाह द्वारा 75 पार का भाजपा में कोई फार्मूला नहीं होने के बयान के बाद मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर और पूर्व मंत्री सरताज सिंह को बड़ी राहत मिली है। इस फार्मूले के आधार पर ही दोनों नेताओं को मंत्री पद से हटाया गया था। अब शाह द्वारा ऐसे किसी नियम या परंपरा होने की अटकलों पर विराम लगाने के बाद गौर ने कहा कि उन्हें राष्ट्रीय महामंत्री रामलाल ने फॉर्मूले की जानकारी दी थी। जिसके तहत उन्होंने इस्तीफा दिया था। जबकि सरताज सिंह बोले कि अब भ्रम दूर हो गया है। वैसे तो केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने भोपाल प्रवास के दौरान बयान दिया था कि पार्टी ने 75 साल पार का कोई फार्मूला लागू नहीं किया है। इसके बाद इस अटकलों का दौर शुरु हो गया था कि केवल मप्र में केवल दो नेताओं को हटाने के लिए इसे लागू किया गया है, लेकिन अब शाह ने इसकी पुष्टि कर दी है कि पार्टी में एेसा कोई नियम नहीं है। इससे गौर, सरताज के अलावा कैबिनेट मंत्री कुसुम महदेले और गौरीशंकर शेजवार को भी राहत मिली है, क्योंकि ये दोनों नेता भी उम्र के इस पड़ाव पर पहुंचने वाले हैं। हालांकि शाह के बयान पर महदेले व शेजवार ने कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। शाह के बयान का असर गोविंदपुरा सीट से विधायक बाबूलाल गौर को मंत्री पद से हटाए जाने के बाद यहां से कई नेताओं ने दावेदारी शुरु कर दी थी। गौर की बहू व पूर्व महापौर कृष्णा गौर, महापौर आलोक शर्मा व एमपी टूरिज्म के अध्यक्ष तपन भौमिक के बीच गौर का उत्तराधिकारी बनने लड़ाई शुरु हो गई थी। अब क्या : गौर फिर से चुनाव लड़ने के लिए तैयार। क्षेत्र में पकड़ के चलते उनका टिकट काटना मुश्किल होगा। ऐसे में आलोक शर्मा व तपन भौमिक को नया क्षेत्र तलाशना होगा। बिना अध्यात्म की ऊंचाई कम करे होगा विकास- भाजपा अध्यक्ष अध्यात्म की ऊंचाई कम किए बिना हम विकास करना चाहते हैं। विकास के चक्कर में अक्सर हम संस्कृति को भूल जाते हैं। यह बात भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को सीएम हाउस में कहीं। वे यहां संतों और विभिन्न समाजों के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर सीएम चौहान ने कहा कि साधु-संतों के आशीर्वाद से 19 राज्यों में हम अपनी सरकार बना चुके हैं। केवल चार मिनट में रोपा पौधा और कलियासोत से चले गए भाजपा अध्यक्ष शाह का काफिला शनिवार दोपहर 2:42 बजे कलियासोत कार्यक्रम स्थल पहुंचा। चार मिनट में वे पौधरोपण करके चले गए। पौधारोपण के लिए यहां फॉरेस्ट गार्ड बरगद के पौधे को उठाने की कोशिश कर रहा था। तब तक शाह ने पौधे को तने से पकड़कर उठाया और गड्ढे में रोप दिया। गड्ढे में खाद और पानी डालते ही शाह ने पौधा छोड़ा और तेजी से गाड़ी की ओर बढ़ गए। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार रात प्रदेश के विशिष्टजनों से राउंड टेबल पर बात की। शाह से सबसे ज्यादा सवाल चीन पर हुए। विशिष्टजनों ने पूछा कि चीन की घेराबंदी से कैसे निपटेंगे? शाह ने इसके जवाब में कहा कि मैं गुजरात से हूं। एक कहानी बताता हूं। एक व्यापारी घी बेचता था। दाम था 40 रुपए किलो। उसकी दुकान के पास ही दूसरे व्यापारी ने 30 रुपए किलो घी का बोर्ड लगा दिया। पहले व्यापारी ने भी 30 रुपए किलो घी कर दिया। फिर दूसरे ने 25 रुपए किलो कर दिया। पहले व्यापारी को भी 25 रुपए कीमत करनी पड़ी। एक सज्जन ने दूसरे व्यापारी को समझाने की कोशिश की कि तुम आपस में मिलकर धंधा क्यों नहीं करते। तो व्यापारी ने जवाब दिया कि मुझे घी थोड़े ही बेचना है। मुझे तो सामने वाले का भाव गिराना है। शाह ने आगे कहा कि भारत लोकतांत्रिक देश है और यहां कर्मचारियों से 8 घंटे से ज्यादा काम नहीं कराया जा सकता। चीन में तो डायपर पहनाकर काम करवाते हैं। भारत के तरीके निश्चित तौर पर अलग होंगे। कुछ फैसले लिए भी गए हैं। जब शाह से प्रतिप्रश्न किया गया कि चीन में भारतीय कंपनियों को काम नहीं मिलता तो शाह ने कहा कि फिर भारत में भी उन्हें काम नहीं मिलेगा। घंटे भर तक अनौपचारिक सत्र में अलग-अलग विषयों पर संवाद हुआ। राउंड टेबल टॉक में पद्मश्री प्राप्त हस्तियों के अलावा उद्योग, कला, संगीत व खेल जगत की हस्तियां शामिल थीं। पाकिस्तान लगातार भारत में आतंक फैला रहा है, कैसे काबू करेंगे? शाह ने कहा कि भारत की नीति पाक के प्रति आक्रामक कभी नहीं रही। टेररिज्म का जवाब देने यह जरूरी नहीं हम भी टेररिस्ट बनाएं। भारत अपने तरीके से हल खोजने की कोशिश कर रहा है। - इतिहास में मुगलों का ज्यादा वर्णन क्यों मिलता है? -उत्तरभारत के राज्यों की इतिहास की किताबों में मुगलों के बारे में ज्यादा वर्णन है जबकि दक्षिण के राज्यों में यह नहीं मिलता। ऐसे ही महाराष्ट्र में शिवाजी के बारे में ज्यादा लिखा गया है। हर राज्य में इतिहास अलग-अलग तरह से पढ़ाया जा रहा है। इसे संतुलित करने की कोशिश की जा रही है। इसमें समय लगेगा। - हॉकी की बेहतरी के लिए काम किए जाने की जरूरत है, क्या करेंगे? -अच्छी बात यह होना चाहिए। इसके लिए आगे और बेहतर काम करेंगे।



यह लेख आपको कैसा लगा
   
नाम:
इ मेल :
टिप्पणी
 
Not readable? Change text.

 
 

सम्बंधित खबरें

 
News Aaj Photo Gallery
 
© Copyright News Aaj 2010. All rights reserved.