Tez Khabar. Khas Khabar

News Aaj Photo Gallery
NSE 10240
BSE 33227.99
hii
Gold 28443
Silver 36457
Home | Salam Fauji

इस मुकाबले में चीन से हारा भारत, रूसी टैंकों ने कराई फजीहत

नई दिल्ली: रूस में चल रहे अंतरराष्ट्रीय सैन्य गेम्स 2017 के तहत चल रहे बड़े देशों की सेना के टैंकों के बीच मुकाबले में भारत बाहर हो गया। एक टीवी चैनल के मुताबिक, तकनीकी दिक्कतों के कारण भारत के दोनों टैंक रेस को पूरा ही नहीं कर पाए। दोनों टैंक खराब होने के कारण भारतीय टीम रेस पूरा करने में नाकाम रही और उसे अयोग्य घोषित कर दिया गया। भारत इन खेलों के लिए टी-90 टैंक लेकर शामिल हुआ था। शुरुआत में कहा जा रहा था कि भारत रेस के लिए स्वदेशी टैंक अर्जुन को उतारेगा, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। भारत रूस द्वारा मुहैया करवाए गए टी-72 टैंक के साथ उतरा था, लेकिन उन टैंक्स के साथ भारतीय सेना सहज नहीं थी इसलिए जहाज के रास्ते भारत ने टी-90 टैंकों को मंगाया। भारतीय सेना के लिए इस प्रतियोगिता का अंत बिल्कुल अच्छा नहीं रहा। भारत को इस रेस का प्रमुख दावेदार माना जा रहा था क्योंकि शुरुआती चरण में भारत की तरफ से बाकी देशों को कड़ी टक्कर दी जा रही थी। फिलहास रूस, बेलारूस, कजाकिस्तान और चीन में फाइनल मुकाबले के लिए जंग जारी है। इन चारों में से ही कोई एक इस खेल का विजेता होगा। रेस में रूस और कजाकिस्तान टी-72बी3 टैंक, बेलारूस टी -72 और चीन 96 बी टैंक के साथ शामिल हुआ है। आपको बता दें कि इस वर्ष इस प्रतियोगिता में कुल 19 देशों ने भाग लिया है। जिसमें, रूस, भारत, चीन, कजाकिस्तान जैसे देश भाग ले रहे हैं। जिसमें से टॉप 4 के बीच अब फाइनल के लिए मुकाबला है। हिस्सा ले रही हर टीम के अंदर 21 कर्मी होते हैं। इसमें टीम के मेंबर के अलावा एक कोच और तकनीकी दिक्कतों से निपटने के लिए टीम होती है। पहले राउंड में रूस जहां पहले नंबर पर रहा, वहीं भारतीय टीम पहले राउंड में चौथे नंबर पर रही। अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेलों में 28 स्पर्धाएं होती हैं। भारत लगातार तीसरे साल इस प्रतियोगिता में शामिल हुआ था। पिछले सालों में रूस हर साल प्रतियोगिता का विजेता बनता रहा है। पिछले साल चीन दूसरे स्थान पर रहा था और भारत छठे स्थान पर रहा था।



यह लेख आपको कैसा लगा
   
नाम:
इ मेल :
टिप्पणी
 
Not readable? Change text.

 
 

सम्बंधित खबरें

 
News Aaj Photo Gallery
 
© Copyright News Aaj 2010. All rights reserved.