Tez Khabar. Khas Khabar

News Aaj Photo Gallery
NSE 10093
BSE 32158
hii
Gold 29847
Silver 41027
Home | आलेख
  • हिमाचल चुनाव: यहां राजपूतों की ताकत और ब्राह्मणों के आशीर्वाद से मिलती है सत्ता
    • हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव का ऐलान हो गया है. राज्य में एक ही चरण में वोट डाले जाएंगे. विधानसभा की 68 सीटों वाले हिमाचल प्रदेश में 9 नवंबर को वोटिंग होगी और 18 दिसंबर को नतीजे आएंगे. यह चुनाव देश की दो बड़ी पार्टियों कांग्रेस और बीजेपी........

  • युद्ध के मुहाने पर खड़ी है दुनिया, ट्रंप कहीं ये भूल ना कर बैठें !
    •  दुनिया पहली बार परमाणु और हाइड्रोजन बमों के युद्ध के मुहाने पर खड़ी है. इतने खतरनाक युद्ध का खतरा इसलिए मंडराया है क्योंकि उत्तर कोरिया का सनकी तानाशाह किम जोंग हाइड्रोजन बम के बाद अब एक और मिसाइल परीक्षण की तैयारी में है. अमेरिका........

  • नए दौर में विकास की नई रीति-नीति
    • नई दिल्ली:इस बार का 15 अगस्त कई मायनों में तूफान के बाद एक तरह की शांति का बोध देता हुआ लगा, तो अचरज नहीं। अलबत्ता, इस शांति में कितना चैन है और कितना भविष्य की चुनौतियों को लेकर चिंता, इस पर फिलहाल हम नहीं जाएगे। किंतु जब हमारे अभिभावकों........

  • मकान खरीदने से ज्यादा फायदे का सौदा है किराए पर रहना
    • नई दिल्लीः रियल एस्टेट सेक्टर की सुस्ती का असर रेंटल मार्किट पर भी देखने को मिल रहा है. पिछले कुछ समय से जहां मकानों के रेट में कमी आई है वहीं मकान के किराया भी कम देने पड़ रहा है. आपको बता दें कि इस समय होम लोन के रेट में पिछले 7 साल के........

  • चीन के 14 पड़ोसी देश, 23 से झगड़ा
    • नई दिल्ली : डोकलाम पर भारत और चीन के बीच जारी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों देशों की सेनाएं डेढ़ महीने से आमने-सामने डटी हुई हैं। चीन की ओर से बार-बार भारतीय सेना को पीछे हटने की धमकी दी जा रही है। सीमा पर गतिरोध तब शुरू हुआ था........

  • भारत के इन शहरों में बना रहता है भूकंप का डर
    • नई दिल्ली  :  भारत के 29 शहर भूकंप के लिहाज से अति संवेदनशील हैं। इसमें देश की राजधानी दिल्ली तथा 9 राज्यों की राजधानियां भी शामिल हैं। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (एनसीएस) के अनुसार भूकंप के लिहाज से ये शहर 'गंभीर' से 'अति गंभीर'........

  • किस तरह से चीन को चौतरफा घेरने की रणनीति में लगा है अमेरिका
    • नई दिल्ली: एक तरफ जहां साउथ-ईस्ट एशिया में लगातार आपसी हितों के टकराव के चलते यहां की महाशक्तियों के बीच खटास बढ़ती जा रही है, वहीं दूसरी तरफ चीन की दादागिरी ने यह साबित कर दिया है कि अगर ऐसे ही वह अपनी शर्तें मनवाता रहा तो स्थिति कभी........

  • दुनिया के सबसे सुरक्षित माने जाने वाले इस बैंक पर भी अब मंडरा रहा खतरा
    • नई दिल्‍ली : जब से सृष्टि बनी है तभी से पेड़-पौधे और जीव जंतु भी अस्तित्‍व में हैं। लेकिन इंसान ने इन सभी पर काबू पाने के लिए जो तबाही मचाई है वह भी किसी से अछूती नहीं है। आलम यह हो गया जो धरती इंसान के रहने के लिए रची बसी थी अब उसने उस........

  • तो कुछ इस तरह चीन और पाकिस्तान को काबू में कर सकता है भारत
    • नई दिल्ली: भारत, पाकिस्तान और चीन के बीच तनाव ऐतिहासिक है। द्वितीय विश्वयुद्ध के समाप्त होने के बाद अमेरिका और रूस की अगुवाई में दुनिया दो गुटों में बंट गई। लेकिन भारत ने निर्गुट रहना पसंद किया। 1947 में अंग्रेजों की गुलामी से भारत आजाद........

  • हिंदी-उर्दू-हिंदुस्तानी नाम-भेद का झगड़ा
    • नई दिल्ली: हिंदू मुसलमान विभेद की ही तरह इस उपमहाद्वीप के सबसे पुराने झगडों में एक झगडा हिंदी बनाम हिंदुस्तानी बनाम उर्दू का भी रहा है | जिस तरह कई हिंदीवालों को उर्दू से चिढ है, उसी तरह उर्दू के कई हिमायती मानते हैं कि उर्दू ही भारत........

  • बैंकिंग सुधारों का नया परिदृश्य
    • नई दिल्ली: हाल ही में सरकार ने देश के इतिहास में सबसे बड़े बैंकिंग एकीकरण को हरी झंडी दिखाते हुए भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में पांच सहायक बैंकों (स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ त्रावनकोर, स्टेट बैंक........

  • दोहरे प्रयासों से तेज होगा विकास
    • नई दिल्ली : बीते सोमवार को जीएसटी कौंसिल की बैठक के बाद आगामी एक जुलाई से इस एकीकृत परोक्ष कर प्रणाली को लागू करने की बात कही गई है। चूंकि नोटबंदी के बाद सरकार देश की अर्थव्यवस्था को कैशलेस बनाने की ओर अग्रसर है, ऐसे में एक जुलाई से........

  • चरखे पर विपक्ष की बेजा बौखलाहट
    • नई दिल्ली :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को केंद्र की सत्ता में रहते हुए ढाई साल हो गए हैं। इस दौरान उनके कामकाज से विपक्ष के मन में पैदा हुई असुरक्षा की भावना को साफ महसूस किया जा सकता है। यही वजह है कि प्रधानमंत्री के हर कदम और फैसले........

  • आर्थिक माहौल को लेकर फिक्रमंद
    • नई दिल्ली :पांच सौ व एक हजार के नोटों का चलन बंद करने की घोषणा के बाद केंद्र सरकार के साथ ही तमाम विशेषज्ञों का अनुमान था कि करीब तीन-चार लाख करोड़ रुपए की राशि काले धन के रूप में होने के कारण बैंकिंग व्यवस्था में लौटकर नहीं आएगी। अब जब........

Breaking News

 
News Aaj Photo Gallery
 
© Copyright News Aaj 2010. All rights reserved.